अनमोल आँखों का रखें ख्याल

91

वयस्तता और तनाव भरी जिन्दगी में लोगों को आखों की रोशनी में कमी यानी की ग्लॉकोम से पीडि़त हो रहे हैं। अधिक तनाव के कारण, नर्व्स डैमेज हो जाती हैं। वैसे तो इस बीमारी को ठीक करना मुश्किल है, लेकिन कुछ तरीके अपनाने से ऐसा ज़रूर हो सकता है कि आंखों की रोशनी ज़्यादा कम न हो। आंखों में प्रेशर को कम करने के नेचुरल तरीके विभिन्न हो सकते हैं। इंसुलिन का स्तर बढऩे पर यह रक्तचाप का कारण बनता है जिससे आंखों पर दबाव पढ़ता है।

  • समाधान यह है कि डाइट में चीनी और अनाज कम करना होगा। ब्रेड, पास्ता, चावल, अनाज, आलू खाने से जितना हो सके बचने का प्रयास करें।  नियमित रूप से व्यायाम करने से इंसुलिन के स्तर को कम किया जा सकता है। एरोबिक्स और स्ट्रेंथ ट्रेनिंग सबसे प्रभारी उपाय है। डीएचए नामक ओमेगा -3 फैट आंखों के स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा है। यह आंखों की रोशनी नहीं जाने देता।
  • ग्रीन वेजिटेबल्स खाने से आंखों की रोशनी बढ़ती है। हरी, पत्तेदार सब्जियों में विशेष रूप से बड़ी मात्रा में पाया जाता है। यह एंटी-ऑक्सीडेंट है और आंखों के सेल्स डैमेज होने से बचाता है। साग, पालक, ब्रोकोली, स्प्राउट्स और अंडे के पीले भाग में भी ल्यूटिन होता है। लेकिन ध्यान रहे कि ल्यूटिन ऑयल में घुलता है। इसलिए इन हरी सब्जय़िों के साथ थोड़ा ऑयल या बटर खाना भी ज़रूरी है।
  • ट्रांस फैट को भी अपनी डाइट में कम करें। इससे भी आंखों की रोशनी जाने का खतरा बढ़ सकता है। ट्रांस फैट पैकेज्ड फूड्स, बेक्ड फूड्स और फ्राइड फूड्स में पाया जाता है